BARC का नया नोटिस सभी न्यूज़ वालो को ? TRP के मामले में फिर से आया टुविस्त अब कुछ अलग ही मामला होगया जाने क्या है TRP बढ़ने का राज ?in 2021

 TRP के मामले में फिर से आया टुविस्त अब कुछ अलग ही मामला होगया जाने क्या है TRP बढ़ने का राज

मुंबई :- TRP के मामले में फिर से आया टुविस्त अब कुछ अलग ही मामला होगया जाने क्या है TRP बढ़ने का राज  TRP केस को पढ़ते हुए मुझे एक विज्ञापन याद आ गया जिसमें एक माँ अपने छोटे बेटे के साथ दौड़ लगाती है और आखिर में कहती है कि जिस दिन मैं अपने बेटे से हार जाऊँगी उस दिन मैं जीत जाऊँगी विज्ञापन तो समझ आ गया परन्तु ये समझ नहीं आया कि इस TRP केस में माँ कौन है और बेटा कौन है.. खैर इस माँ बेटे की दौड़ से बाहर निकलकर हम भ्रष्टाचार की रेस में आते हैं और देखते हैं कि कौन कितना बड़ा साहूकार है चोर नहीं.. मतलब आप समझ ही गए होंगे आजकल चोर कहने से लोकप्रियता खुद-ब-खुद मिलने लगती है आज का विषय ये है  टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट घोटाला मामले में गिरफ्तार हुए रेटिंग एजेंसी BARC (दासगुप्ता ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल) के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता की तबीयत शनिवार को अचानक खराब हो गई। इसके बाद उन्हें मुंबई के राजकीय जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। BARC के 2013 से 2019 के बीच CEO थे। BARC वह संस्था है, जो देश के 45 हजार घरों में टीवी पर लगे बार-ओ-मीटर के जरिए हर हफ्ते बताती है कि कौन सा चैनल कितना देखा जा रहा है सूत्रों के मुताबिक, तलोजा सेंट्रल जेल में बंद दासगुप्ता डायबिटीज के पेशेंट हैं और सुगर लेवल बढ़ने के बाद उन्हें शनिवार तड़के हॉस्पिटल लाया गया। फिलहाल वे ऑक्सीजन सपोर्ट सिस्टम पर हैं। दासगुप्ता को पिछले साल 24 दिसंबर में मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम द्वारा कथित टीआरपी में बड़े पैमाने पर धांधली के आरोप में गिरफ्तार किया गया था जनवरी के शुरुआत में मुंबई की एक अदालत ने दासगुप्ता की जमानत याचिका खारिज कर दी थी, जिसमें कहा गया था कि उन्होंने इस घोटाले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास खानचंदानी, रोमिल रामगढ़िया और बार्क के सीईओ पार्थो दासगुप्ता के खिलाफ टीआरपी घोटाला मामले में 3400 पन्नों की सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर की है। इस मामले में अब तक लिए गए 59 गवाहों के बयान और 15 विशेषज्ञ के बयान जिसमें फॉरेंसिक एक्सपर्ट भी शामिल हैं मुंबई पुलिस ने पहले अदालत को बताया था कि रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने अपने दोनों समाचार चैनलों की टीआरपी को बढ़वाने के लिए उन्हें कथित तौर पर ‘लाखों रुपये’ रिश्वत दी थी शुक्रवार को रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्‍वामी और दासगुप्‍ता के कथित वॉट्सऐप चैट के स्‍क्रीनशॉट सोशल मीडिया में वायरल हुए थे। बर्क के ऑफिशियल सर्वर से रिकवर यह चैट 3600 पेज की चार्जशीट का हिस्‍सा हैं। सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने भी इन चैट्स के कुछ हिस्सों को अपने सोशल मीडिया अकाउंट से सार्वजनिक किया था जो चैट सार्वजनिक हुए थे उनमें एक नाम अर्नब का नजर आ रहा है, जबकि दूसरे नाम के बारे में दावा किया जा रहा है कि वे पार्थो दासगुप्ता हैं। यह क्राइम ब्रांच के पास मौजूद 500 पेज की वॉट्सऐप चैट का हिस्सा बताया जा रहा है। हालांकि, मुंबई पुलिस ने अब तक इन स्क्रीनशॉट्स की पुष्टि नहीं की है टीवी चैनल्स दो तरह से टीआरपी को प्रभावित करते हैं। पहला, यदि उन्हें पता चल जाए कि बार-ओ-मीटर या पीपल मीटर कहां लगे हैं तो वे उन परिवारों को सीधे कैश या गिफ्ट के जरिए अपने चैनल देखने को प्रेरित करते हैं। दूसरा, वे केबल ऑटरेटर्स या मल्टी-सिस्टम ऑपरेटर्स के जरिए यह सुनिश्चित करते हैं कि दर्शकों को उनके चैनल सबसे पहले दिखें BARC का नया नोटिस सभी न्यूज़ वालो को अब सबको देना होगा रिपोर्ट ।

Leave a Comment