प्राचीन काल से संबंधित प्राचीन काल में सजा कैसे दी जाती थी | पुराने जमाने में दी जाने वाली खतरनाक सजा | सजा-ए-मौत

प्राचीन काल से संबंधित :- आप ने कभी सोचा है की अभी के समय में सभी वास्तु कानून और भी तरह तरह की जानकारी हमे पता चल जाती है पर पुराने जमने में क्या हुआ करता था ( प्राचीन काल से संबंधित )क्या आप ने सोच है नहीं तो हम आपको प्राचीन काल में ले के चलते है और आपको बताते है की पुराने जमने में सजा यही जो गुनेगार होता था उसे किसी सजा दी जाती थी ( प्राचीन काल से संबंधित ) कुछ सजा हम आपको बताते है जो की पुरातात्विक बताते है यही histrology वैज्ञानिक बताते है ?

सा टोचर :- यहाँ सजा केवल गंभीर अपराधियों को दी जाती थी इसमें व्यक्ति को उल्टा करके खम्बे पर टांग दिया करता था और फिर धीरे धीरे उसे काटना शुरू कर दिया जाता था ( प्राचीन काल से संबंधित ) सबसे पहले उसके पैर से स्टार्ट किया जाता था और ख़तम सर पर किया जाता था यानि यहाँ सब जिन्दा व्यक्ति के साथ किया जाता था और तो कभी कभी व्यक्ति को धीरे धीरे काट कर उसे आधा ही छोड़ दिया जाता था तड़पने के लिए यहाँ सजा बड़ी अपराधियों को ( प्राचीन काल से संबंधित ) दिया जाता था।

पीतल का बेल :- प्राचीन यूनियन में अपराधियों को सजा देने का सबसे कॉमन तरीका व्यक्ति को पीतल के बने बेल में दाल दिया जाता और निचे आग लगा दिया जाता था ( प्राचीन काल से संबंधित ) यही अगर साधरण शब्दों में कहे तो एक पीतल की ताल पर आदमी को रख कर निचे से आग लगा दी जाती थी और यहाँ जब तक किया जाता था की आदमी जिन्दा पतीले में मर जाता तब तक उसे इसी तरह से मारा जाता था और पतीले में जिन्दा व्यक्ति का सारा शरीर जल के पिघल जाता था। ( प्राचीन काल से संबंधित )

तीन दिन वाली सजा ए मौत :- 15 शताब्दी में रोमेनिया में अपराधियों को मरने के लिए तीन दिन तक का इंतजार करना पड़ता था उन्हें एक नोकीली धार के पार्टर पर बिठा दिया जाता था ( प्राचीन काल से संबंधित ) और व्यक्ति के ऊपर धीरे धीरे बाहरी वजन दिया जाता था जिससे उसके पीछे धीरे धीरे नोकीली पत्थर उसके पिछवाड़ा में घुस कर ( प्राचीन काल से संबंधित ) उसके सर तक आता था और इसे रोमानिया के लोग इंतजार करने वाली सजा का नाम दिया गया है किउकी धीरे धीरे उसके पीछे नोकीली वास्तु जाती है यहाँ बहुत ज्यादा अपराधो को दिया जाता था।

चूहों वाली सजा :- धीमी मौत भी कहा जाता है ( प्राचीन काल से संबंधित ) वो इसलिए किउकी यहाँ सजा बहुत धीरे धीरे काम करती है धीमी मौत देने के लिए सबसे खतरनाक तरीका जो राजा दुवरा दी जाती थी इस सजा में व्यक्ति के पेट पर चूहों का एक भरी भरकम पिजरा रखा दिया जाता था और पिजरे ले ऊपर आग रख दी जाती थी ( प्राचीन काल से संबंधित ) जिससे की पिजरे में चूहे निकलने की कोशिश कर और इसे चक्कर में अपराधियों के पेट में बहुत सरे चूहे छेद करके घुस जाते थे जिससे की अपरधियों की मौत हो जाती थी ( प्राचीन काल से संबंधित )

जिन्दा मौत घसीटो :- पुराने समय में इंग्लैंड में राजा दुवरा उन लोगो को दी जाती थी जो देश द्रोह होते थे देशद्राहयो के लिए यहाँ राजा मुकदर की जाती थी इसमें व्यक्ति को घसीटकर बहुत दूर ले जाया करते है टैग कर जिससे की व्यक्ति अधमरा हो जाता था और फिर भी व्यक्ति बच जाता था ( प्राचीन काल से संबंधित ) तो उसका प्राइवेट पार्ट को जला दिया जाता था और उसके शरीर के चार टुकड़े कर दिए जाते थे यहाँ सब काम जिन्दा व्यक्ति के साथ किया जाता था।

Leave a Comment

x