What is the story of Vera Gedroit? | what is Google Doodle

Google Doodle: क्या है Vera Gedroits की कहानी?

उनके नाम पर हम सभी लोगो को सम्मान करता चाहिए और सभी कर भी रहे है खासकर Google ने सोमवार को रूस की पहली महिला सर्जन वेरा गेड्रोइट्स (Vera Gedroits) की याद में डूडल (Google Doodle) बनाया है। यह डूडल (Google Doodle) डॉ वेरा गेड्रोइट्स के 151वें जन्मदिन के मौके पर बनाया गया है। बता दें कि वेरा गेड्रोइट्स (Vera Gedroits) ना सिर्फ एक सर्जन थी, बल्कि वह एक प्रोफेसर भी थी। raed also :- Most Expensive Dish in the world | What is the most expensive food in the world price

The Adiyogi statue | Tellest shiva statue in india, cost,height,wedth,making cost moreगूगल ने अपने डूडल में वेरा की तस्वीर लगाई है। साथ ही एक फोटो और जोड़ी है, जो उनके काम के बारे में जानकारी देती है। उन्होंने रूस में हाईजीन, पोषण और स्वच्छता की निचले स्तर को लेकर चिंता व्यक्त की और स्थिति को बेहतर करने के लिए सुझाव भी दिए। पहले विश्व युद्ध तक उन्होंने रॉयल कोर्ड में फिजिशियन के रूप में सेवा दी। युद्धि की शुरुआत में वह लड़ाई के मौदान में पहुंची। बाद में उन्हें कीव वापस भेज दिया गया, जहां उन्होंने एक फिजिशियन और एकेडमिक के क्षेत्र में अपना कार्य जारी रखा।

साल 1921 में उन्हें बाल चिकित्सा सर्जरी पढ़ाने के लिए कीव मेडिकल इंस्टीट्यूट में नियुक्त किया गया। महज दो साल में ही वेरा वहां प्रोफेसर बन गईं। वेरा ना सिर्फ सर्जरी और मेडिकल प्रोफेसर रही, बल्कि उन्होंने कई मेडिकल रिसर्च पेपर भी लिखे। साल 1930 में उन्हें वहां से रिटायर कर दिया गया, जिसमें बाद वेरा ने अपना ध्यान लिखने में लगाया है। रिटायरमेंट के बाद उनका पूरा ध्यान अपनी आत्मकथा लिखने पर था।

साल 1932 में महज 52 वर्ष की उम्र में उनकी मौत कैंसर के कारण हुई। अपनी आत्मकथा के अलावा वेरा ने कई अन्य किताबें भी लिखी जो की बहुत ऐसी जानकारी दी है और यहाँ किताब अधिकतर चिकित्सा सर्जरी पड़ते है वह एक लोगो की तरह नहीं थी सभी देशो को ऐसी ही एक चिकित्सा सर्जरी की तलाश रही होती है आज उनका 151वें जन्मदिन है जो की गूगल ने अपने Google डूडल में नाम के साथ लगया है जो की एक अगल से सम्मान देने जैसा है read also :- Morning Routine | Morning Routine Yoga | Healthy Morning Routine

Leave a Comment

x