Chandraprabha vati ke fayde चन्द्रप्रभा वटी उपयोग इस्तेमाल फायदे और नुकशान जाने ?

क्या है चन्द्रप्रभा वटी?

Chandraprabha vati ke fayde :- यह वटी एक ऐसी औषधि है, जिसके काफी उपयोगी फायदे हैं। चन्द्रप्रभा यानी कि चांद जैसी चमक, चन्द्रप्रभा वटी अपने नाम के जैसे असरदार भी है।चन्द्रप्रभा वटी स्मरण शक्ति बढ़ाने में काफी उपयोगी है और इसी प्रकार गुर्दे की बीमारी, शरीर की पूर्ति में कमी होना, जोड़ों के दर्द, घुटनों में दर्द और पैरों में सूजन, हार्मोन लेवल का असंतुलन होना इत्यादि से राहत दिला दी है।इसके उपयोग से हमारे शरीर की चमक यानी कि जैसे एक शरीर का लेबल होना चाहिए उसी प्रकार संतुलन बना देती है (Chandraprabha vati ke fayde )यहाँ चन्द्रप्रभ अपने नाम की तरह ही भोत असरदार है यहाँ काफी तरह की बीमारी में यहाँ एक अमृत जैसी है और यहाँ पूयूर आयुर्वेदिक है यानि की अगर आपको फायदा नहीं हो रहा है तो आपको किसी भी तरह का कोई भी नुकशान भी नहीं होगा यहाँ औषधि आपको आयुर्वेदिक पर भरोशा दिला सकती है दिव्य चन्द्रप्रभा वटी एक आयुर्वेदिक दवा है जो की टेबलेट फॉर्म में है। आयुर्वेद में टेबलेट फॉर्म की दवा को वटी कहा जाता है। चन्द्रप्रभा वटी के बहुत प्रकार के लाभ होते हैं इसलिए इसके नाम से ही ज्ञात होता है जैसे चंद्र की प्रभा होती है वैसे ही इस दवा के लाभ होते हैं। Chandraprabha vati ke fayde

चन्द्रप्रभा वटी के उपयोग ?

Chandraprabha vati ke fayde :- चन्द्रप्रभा वटी को किस किस में उपयोग किया है जाता है वैसे तो हमने आपको सूची निचे दी है यहाँ सभी तरह की चन्द्रप्रभा वटी काम आती है उपयोगी घटक और इस वटी का सेवन मधुमेह ,गुर्दे की पथरी ,ज्वर ,पेशाब की जलन ,श्वेत प्रदर आदि विकारों निवारक में उपयोगी होता है। मूत्रकृच्छ, अश्मरी, विबंध, अनाह (आफरा), शूल (दर्द) एवं आंत्रव्रद्धी विकारों में यह दवा प्रभावी मानी जाती है। इस वटी के सेवन से पूर्व डॉक्टर की सलाह अवश्य लेवें।

  • (कपूर) चन्द्रप्रभा
  • वचा Chandraprabha vati ke fayde
  • मुस्ता
  • भूनिम्ब
  • गुडूची
  • देवदारु
  • हरिद्रा
  • अतिविषा
  • दारूहरिद्रा
  • पिप्पलीमूल
  • चित्रक
  • धान्यक
  • हरीतकी
  • विभितकी
  • आमलकी
  • चव्य
  • विडंग
  • गज्जपिप्पली
  • त्रिकटु
  • माक्षिक भस्म
  • सज्जीक्षार
  • यवक्षार
  • सैन्धव लवण
  • विडलवण
  • सौवर्चलवण
  • त्रिवृत
  • दंती
  • पत्रक
  • त्वक
  • इलायची
  • वंशलोचन
  • लौहभस्म
  • शर्करा Chandraprabha vati ke fayde
  • शिलाजीत

चन्द्रप्रभा वटी के फायदे ?

  • मूत्र जलन, मूत्र मार्ग में संक्रमण एंव समस्त प्रकार के मूत्र विकारों में लाभदायक होती है। 
  • कटी शूल, घुटनों के दर्द और अन्य जोड़ों के दर्द में लाभदायक प्रभाव होते हैं। 
  • पथरी के रोग में यह दवा प्रभावी है। 
  • Chandraprabha vati ke fayde
  • स्वसन  रोगों में इस दवा के सेवन से लाभ मिलता है। 
  • पुरुषों में वीर्य की कमी, धातु रोग की समस्या, स्वप्न दोष, शीघ्रपतन में यह दवा उपयोगी है। 
  • भगन्दर और अंडवृद्धि में इस दवा का सेवन लाभदायी होता है। 
  • पीलिया और रक्त की कमी में लाभदायक। 
  • Chandraprabha vati ke fayde
  • महिलाओं में गर्भाशय के विकारों में लाभप्रद। 
  • दन्त और नेत्र विकारों में फायदेमंद। 
  • वात कफ और पित्त, त्रिदोष में लाभप्रद। 
  • शारीरिक कमजोरी में लाभदायी। 
  • Chandraprabha vati ke fayde
  • पाचन सबंधी विकारों में प्रभावी दवा। 
  • रक्त साफ़ करती है और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखने में सहायक। 
  • गठिया रोग में इसका उपयोग लाभदायी होता है। 
  • मधमेह में इस दवा का उपयोग किया जाता है। 
  • किडनी से सबंधित विकारों में चंद्र प्रभा वटी का उपयोग किया जाता है। 
  • स्त्रियों के पेडू में जलन, मूत्र सबंधी विकारों में उपयोगी। 
  • शारीरिक और मानसिक शक्ति में वृद्धि के लिए।

चन्द्रप्रभा वटी शरीर की फुरती के लिए

Chandraprabha vati ke fayde :- चन्द्रप्रभा वटी की सहायता से हम शरीर की स्फूर्ति को बरकरार रख सकते हैं।आजकल की कार्यशैली काफी तेज हो चुकी है जिसकी वजह से मशीनों का आविष्कार हो रहा है।इसकी वजह से हमारी शारीरिक गतिविधि नियमित नही हो पा रही है।और जब हमें शारीरिक कार्य करने कि आवश्यकता होती है तब हम जल्दी थक जाते हैं।और उस थकान की वजह से हम ज्यादा काम नहीं कर पाते है। Chandraprabha vati ke fayde

अगर हम चन्द्रप्रभा वटी का नियमित उपयोग करते हैं तो उसकी सहायता से हमें शरीर में स्फूर्ति को बरकरार रखने का लाभ मिलता है।इसमें उपस्थित घटक हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं।चाहे आप शारीरिक कार्य रोज करते हो या फिर कभी-कभी करते हो,चंद्रप्रभा वटी मेंउपस्थित घटक आपके लिए लाभकारी होंगे।

स्मरण शक्ति में

Chandraprabha vati ke fayde :- आजकल हम देखते हैं कि लोगों के भूलने की आदत कुछ बढ़ती जा रही है, लोग भूलते ज्यादा है।सबसे बड़ी समस्या यह है आजकल के जो युवा हैं या फिर बच्चे हैं| उनमें स्मरण शक्ति की कमी कुछ ज्यादा है। चन्द्रप्रभा वटी के उपयोगी घटक जो की स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिएअसरदार है।इसकी सहायता से स्मरण शक्ति की कमी दूर हो जाती है और साथ ही छोटे बच्चों के लिए भी उपयोगी है जो उनकी स्मरण शक्ति बढ़ाती है जिससे उनमें भूलने की आदत पैदा नहीं होती है।

तनाव से छुटकारा

Chandraprabha vati ke fayde :- चन्द्रप्रभा वटी ना केवल शारीरिक थकान को दूर करती है बल्कि मानसिक थकान को भी दूर करती है।मानसिक थकान जिसे हम सरल रूप में तनाव के नाम से जानते हैं, जिसका कारण किसी चीज के बारे में अधिक सोचना, उसके बारे में चिंतित होना, नींद ना आना, हताश हो जाना इत्यादि लक्षण हो सकते हैं इन्हीं कारणों से मानसिक तनाव बढ़ता है और उसका असर दिखता तो नहीं है लेकिन वह हमारे शरीर को भी तनाव ग्रस्त कर देती है।इसीलिए चंद्रप्रभा वटी के उपयोग से हम पूर्णतः तनाव रहित हो सकते हैं। Chandraprabha vati ke fayde

जोड़ों में दर्द

Chandraprabha vati ke fayde :- जोड़ों में दर्द होना यह आजकल की आम समस्या है, उसके कई कारण हो सकते हैं जैसे कि चोट लगना, किसी बीमारी से संक्रमित हो ना,जोड़ों के आसपास यह करीब गांठ बनना इत्यादि।इन सभी के निवारण के लिए चन्द्रप्रभा वटी हमारे लिए लाभदायक होती है क्योंकि इसमें उपस्थित तत्व जोड़ों में उपस्थित सूजन, गांठ, दर्दको दूर करने में कारगर साबित होती है और अगर कोई व्यक्ति बुढ़ापे की ओर अग्रसर है तो उसके जोड़ों में दर्द होना इसके लिए भी चंद्रप्रभा वटी उपयोगी है, इसके उपयोग से जोड़ों के दर्द से रहित और हम लाभान्वित हो पाते हैं। Chandraprabha vati ke fayde

चंद्रप्रभा वटी के मुख्य घटक

Chandraprabha vati ke fayde
Chandraprabha vati ke fayde

Chandraprabha vati ke fayde :- चन्द्रप्रभा वटी का निर्माण 37 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी और भस्मों को मिलाकर आयुर्वेदिक शास्त्रों में बतायी गई विधि के द्वारा बनायीं जाती है जो की इस प्रकार है: चंद्रप्रभा (कर्पूर) मरिच, वाचा. पिप्पली, मुस्ता, मक्षिका, भूनिम्बा, यवक्षार,अमृता, सर्जीक्षार, देवदारु, सेंधव लवण, हरिद्रा, सौवर्चला लवण, अतीविशा, विड लवण, दारुहरिद्रा, त्रिवृत, पिप्पलीमूल, दंती, चित्रक, तेजपत्ता, धान्यक, तवक, हरितकी, एला, बिभीतक, वंशलोचन, अमलाकी, लौहा भस्म, चव्या, सीता, विडंग, शिलाजीत गजपिप्पली, गुग्गुलु, शुण्ठी। Chandraprabha vati ke fayde

चन्द्रप्रभा वटी के आयुर्वेदिक

Chandraprabha vati ke fayde :- चंद्रप्रभा वटी एक शास्त्रीय आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है ज्यादातर जेनिटो-मूत्र प्रणाली के रोगों के लिए उपयोग किया जाता है, जिसमें मूत्रकृच्छ, अश्मरी,मूत्राघात और 20 प्रकार की प्रमेह और आंत्र वृद्धि शामिल हैं। मासिक धर्म,अर्बुद और ग्रन्थि से संबंधित रोग हमारे आचार्यों ने मुख्य रूप से शरीर के तीन अंगों पर जोर दिया अर्थात् ह्रदय (हृदय), वस्ति (गुर्दा), शिर (सिर)Chandraprabha vati ke fayde इन अंगों को भी कहा जाता है जीवन के तिपाई इन अंग को किसी भी तरह का नुकसान पहुंचाने वाले जीवन के लिए खतरा है हृदय रोग, वस्ति रोग, शिरोरोग को तुरंत ठीक किया जाना चाहिए मूत्रकृच्छ वस्ति रोग से सम्बंधित है और चंद्रप्रभा वटी मुत्रकृच्छ्र में बहुत उपयोगी है और लक्षणों को बहुत प्रभावी ढंग से दूर करता है। Chandraprabha vati ke fayde

चंद्रप्रभा वटी ठीक करती है किडनी सम्बन्धी रोग

Chandraprabha vati ke fayde :- किडनी के खराब होने पर मूत्र की उत्पत्ति बहुत कम होती है जो शरीर में अनेक रोग उत्पन्न करता है एवं मूत्राशय में विकृति होने पर मूत्र आने पर जलन, पेडू में जलन, मूत्र का रंग लाल होना या अधिक दुर्गन्ध होना इन सब में चन्द्रप्रभा वटी अति उपयोगी है। इससे गुर्दों की कार्यक्षमता बढ़ती है Chandraprabha vati ke fayde जो शरीर को साफ करते हैं। बढ़े हुए यूरिक एसिड (Uric acid) और यूरिया (Urea) आदि तत्वों को यह शरीर से बाहर निकालती है। अगर आप किडनी रोगों से पीड़ित हैं तो आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह लेकर चंद्रप्रभा वटी का उपयोग करें

चंद्रप्रभा वटी है मूत्र सम्बन्धी विकारों में लाभदायक

Chandraprabha vati ke fayde :- यह वटी पेशाब की परेशानियों और वीर्य विकार की काफी लाभकारी तथा प्रसिद्ध दवा है। मूत्र आने पर जलन, रुक–रुक कर कठिनाई से मूत्र आना, मूत्र में चीनी आना, मूत्र में एल्ब्युमिन जाना (Albuminuria), मूत्राशय की सूजन तथा लिंगेन्द्रिय की कमजोरी इससे शीघ्र ठीक हो जाती है।

पतंजलि चंद्रप्रभा वटी से बढ़ाएं शारीरिक और मानसिक शक्ति

Chandraprabha vati ke fayde
Chandraprabha vati ke fayde

Chandraprabha vati ke fayde :- पतंजलि चंद्रप्रभा वटी के नियमित सेवन से शारीरिक तथा मानसिक शक्ति मे वृद्धि होती है। यह थोड़े से श्रम से हो जाने वाली थकान और तनाव आदि को कम करती है, शरीर में स्फूर्ति लाती है और स्मरण शक्ति (memory) को बढ़ाती है। चंद्रप्रभा वटी के फायदे को देखते हुए Chandraprabha vati ke fayde इसे सम्पूर्ण स्वास्थ्य टॉनिक के रूप मे प्रयोग किया जाता है। इसके साथ लोध्रासव या पुनर्नवासव का भी प्रयोग करना चाहिए। टॉनिक होने के अलावा चंद्रप्रभा वटी शरीर को विभिन्न प्रकार के टॉक्सिन (toxins) से मुक्त करने का भी काम करती है।

वीर्य सम्बन्धी रोगों में चंद्रप्रभा वटी के लाभ

Chandraprabha vati ke fayde :- पुरुषों में अधिक शुक्र क्षरण या स्त्रियों में अधिक रजस्राव होने से शारीरिक कान्ति नष्ट हो जाती है, शरीर का रंग पीला पड़ना, थोड़े ही परिश्रम से जल्दी थक जाना, आँखे अन्दर धँस जाना, भूख न लगना आदि विकार पैदा हो जाते है ऐसे में इस वटी का प्रयोग करने से लाभ मिलता है। यह रक्तादि धातुओं की पुष्टि करती है। यह स्पर्मकाउंट (sperm count) को बढ़ाती है, ब्लड सेल यानी रक्त कोशिकाओं का शोधन तथा निर्माण करती है। स्वप्नदोष (Nightfall) या शुक्रवाहिनी नाड़ियों के कमजोर पड़ जाने पर इसे गुडुची के क्वाथ से लेना चाहिए। Chandraprabha vati ke fayde

चन्द्रप्रभा वटी की खुराक

Chandraprabha vati ke fayde :- इसमें उपस्थित सभी तत्व हर व्यक्ति, बच्चा, बूढ़े,महिलाओं को लाभान्वित करती है।इसकी खुराक लेने के लिए कुछ सावधानी रखनी होती है जैसे कि-

  • बच्चे के लिए खुराक:- एक गोली प्रतिदिन
  • वयस्क के लिए खुराक:- 2-3 गोली प्रतिदिन सुबह और शाम

Chandraprabha vati ke fayde :- अगर किसी व्यक्ति को मूत्र, गर्भाशयऔर प्रजनन अंगों से संबंधित कोई बीमारी है तो खाना खाने से आधे घंटे पहले खुराक लेनी होती है और बाकी सभी व्यक्तियों को खाना खाने के आधे घंटे बाद खुराक लेनी होती है चंद्रप्रभा वटी को लेते समय आप गुनगुने पानी या दूध का इस्तेमाल कर सकते हैं।

चन्द्रप्रभा वटी के नुकसान

Chandraprabha vati ke fayde :- वैसे किसी भी औषधि का साइड इफेक्ट नहीं होता है और उससे कोई नुकसान नहीं होता है लेकिन कुछ स्थिति ऐसी होती है जिसमें उन चीजों का ध्यान रखना होता है जैसे कि- चंद्रप्रभा वटी में लोहे (Iron) की मात्रा अधिक होती है।इसके लिए उन व्यक्तियों को ध्यान रखना चाहिए जिनको थैलेसीमिया, अल्सर जैसी बीमारियां होती है या फिर उस से गुजर रहे होते हैं।इसके अलावा चंद्रप्रभा वटी के कोई नुकसान नहीं है।

सावधानिया

Chandraprabha vati ke fayde :- चन्द्रप्रभा वटी के सेवन में सावधानिया वैसे तो यह एक आयुर्वेदिक दवा है जिसके कोई ज्ञात साइड इफ़ेक्ट नहीं हैं, फिर भी इसके सेवन से पूर्व डॉक्टर की सलाह लें। विशेषकर गर्भवती महिला, स्तनपान के दौरान और छोटे बच्चों को यह दवा बगैर डॉक्टर की सलाह के नहीं देना चाहिए अगर आपको यहाँ दवा लेनी है तो यहाँ देव के बारे में अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले फिर इसका इस्तेमाल करे बिना डॉक्टर के सलाह के बगैर यहाँ खतरनाक हो सकता है इसके साइड इफ़ेक्ट हो सकते है Chandraprabha vati ke fayde आपको अगर आप अपने डॉक्टर को यहाँ दवा बता वे सलाह ले के लेंगे तो आपके साथ किसी भी तरह की परेशानी होने पर डॉक्टर तुरंत एक्शन ले सकेंगे

Q&A

प्रश्न :- चन्द्रप्रभा वटी बिना डॉक्टर की सलाह से ले सकते है? Chandraprabha vati ke fayde

उत्तर :- चन्द्रप्रभा वटी एक आयुर्वेदिक औषधि है और किसी भी औषधि को चिकित्सक के अनुसार बताये गये समय पर ही करना चाहिये।

प्रश्न :- क्या चंद्रप्रभा वटी और अश्वगंधा एक साथ ले सकते है ? Chandraprabha vati ke fayde

उत्तर :- चंद्रप्रभा वटी और अश्वगंधा दोनों ही औषधि आयुर्वेद के अनुसार रसायन है यानि आरोग्य को देने वाली है। इनको साथ लेने का निर्णय रोग की प्रकृति और चिकित्सक के ऊपर आधारित है इसलिए इनको एक साथ उपयोग से पहले चिकित्सक से जरूर परामर्श ले।

प्रश्न :- किस ब्रांड की चन्द्रप्रभा वटी गुणवत्ता में अच्छी होती है ? Chandraprabha vati ke fayde

उत्तर :- बाजार में कई प्रकार के ब्रांड की चन्द्रप्रभा वटी उपलब्ध है जैसे डाबर चंद्रप्रभा वटी (Dabur Chandraprabha Vati), झंडू चंद्रप्रभा वटी (Zandu Chandraprabha Vati) बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी (Baidyanath Chandraprabha Vati) और दिव्य चंद्रप्रभा वटी (Divya Chandraprabha Vati) आदि सभी ब्रांड अपने अनुसार अच्छी गुणवत्ता की औषधि बनाते है आप अपने चिकित्सक के परामर्श से किसी भी ब्रांड की चन्द्रप्रभा वटी उपयोग कर सकते है।

Conclusion about of Chandraprabha vati ke fayde

Chandraprabha vati ke fayde :- मुझे उम्मीद है की आपको यहाँ जानकारी बहुत मददगार हुआ होगा अगर आपके के कोई भी प्रश्न है तो आप कमेंट करके पूछ सकते है इस पोस्ट में हमने सीखा की Chandraprabha vati ke fayde में जानकारी ली है हमने आपको यहाँ जानकारी कई तरह के रिसर्च करके तैयार किया है और comment में जरूर बताये और इस पोस्ट को शेयर करे तब तक के लिए हमारे साथ जुड़े रहे।

Leave a Comment

x