close

Meditation in Hindi मेडिटेशन क्यों करते हैं? ध्यान कैसे करें मेडिटेशन कब करना चाहिए?

मेडिटेशन कब करना चाहिए?

मेडिटेशन क्यों करते हैं?

हर कोई आज के समय में परेशान है कोई पैसे की वजह से परेशान है तो कोई घर की समस्या से परेशान है तो किसी की शादी की समस्या है मतलब अगर देखा जाये तो हर कोई किसी न किसी तरह से वह परेशान है महात्मा गौतम बुद्ध बोलते है की इंसान की सबसे ज्यादा समस्या उसकी इच्छा है जब तक इंसान की इच्छा व्यक्ति में होगी वह किसी न किसी की वजह से परेशान रहेगा

और अगर देखा जाये तो बिलकुल सही बात है जैसे की :- किसी को घर चाहिए उसके लिए वह दिन रात काम में लगा हुआ है तो किसी को अपने लिए फ़ोन लैपटॉप या कपडे ऐसे ही बहुत तरह के वक्ती की इच्छा है जिसकी वजह से इंसान परेशान है एक अच्छा व्यक्ति कभी भी अपने लिए नहीं सोचते बल्कि दूसरे के बारे में सोचता है और महात्मा गौतम बुद्ध यह भी बोलते है की अगर इंसान इच्छा पर काबू कर ले तो वह जब कुछ जीत सकता है

अब आज के समय में यह सब करना तोड़ा कठिन हो सकता है पर नामुमकिन नहीं अगर आप भी चाहते है की पूरी दुनिया आप घूमे तो आपको अपने दिमाग पर काबू करना होगा और आपको एक गहरा ध्यान लगना होगा और अपने दिमाग को संत रखना होगा

आप ने देखा होगा की बड़े बड़े साधु संत ध्यान में लीन होते है जिसकी वजह से वह कपडे बहुत हलके पहनते है ताकि उन्हें ध्यान लगाने समय किसी भी तरह की परेशानी न हो आप भी इस शोर और भाग दौड़ की ज़िन्दगी से संत और अच्छी जीवन बिता सकते है बस आपको रोज ध्यान लगने की जरुरत है।

भागदौड़ भरी जिंदगी में सुकून की सबसे ज्यादा कमी है होती जा रही है घर में आपको बंद जैसा लगता है और बहार आपको अपने बॉस की बुरी भली सुनाने के बाद आपका पूरा दिन ख़राब हो जाता है आपको रोज सुबह मैडिटेशन करने से आपको बहुत ज्यादा फायदा देखने को मिलेगा आपका मन बिलकुल संत अवस्थ में रहेगा और आपका फोकस पावर बढ़ेगा जिसके कारण आप मुश्किल से मुश्किल काम भी आप बहुत आसानी से उसका हल निकल लेंगे और अगर आपका जब दिमाग संत अस्वस्थ में रहता है तो आपके साडी मुस्किलो के हल अपने आप निकल जाते है और आप अपनी जीवन में खुसी से जीवन जी सकेगे

meditation in hindi
meditation in hindi How To Do Meditation in Hindi | सुबह ध्यान कैसे करें | Meditation Tips for Beginners | मैडिटेशन करने के फायदे

भारत और जापान एक ऐसे देश है जहाँ पर खुशी की बहुत कमी है और दुनिया के सबसे ज्यादा बिजी वाले लोग यही रहते है अगर आपको अपने आप को सबसे अलग करना है तो आप भी आज से मैडिटेशन करना शुरू कर दे आप कैसे ध्यान लगा सकते है हम आपको बताएगे

मेडिटेशन क्या है – What is Meditation in Hindi?

मैडिटेशन क्या है बहुत लोगो का यह सवाल होता है आपको बता सिम्पल भाषा में बता दे की मैडिटेशन को हिंदी में ध्यान लगाना कहा जाता यही और मैडिटेशन का अर्थ एकाग्र भाव से ध्यान लगाना जिसका लक्ष्य होता है मनुष्य को आत्मिक शांति प्रदान करना और उसको सभी चिंता और भाव से बहार निकलना अगर आप रोजना सही तरह से मैडिटेशन करते है तो आपको सभी तरह की समस्या का समाधान बहुत आसानी से मिल जाता है जब आप ध्यान लगाना शुरू करते है तो आपके शरीर में एक ऊर्जा प्राप्त होती है जिसे आंतरिक ऊर्जा कहा जाता है इसमें अपने मन को शांति देने से लेकर आंतरिक ऊर्जा (Energy) या जीवन- शक्ति का निर्माण करना हो सकता है ध्यान कैसे लगते है

ध्यान कैसे लागए Meditation in Hindi

अगर आप अभी शुरुआत कर रहे है तो आपको कुछ तरह की चींजो पर थोड़ा ख्याल रखना होगा जैसे अगर आप शुरू में मैडिटेशन कर रहे है तो आप 5 से 10 मिनट ही करे क्युकी अगर आप शुरू में ज्यादा मैडिटेशन करते है तो आपको नीद आने लग जाएगी वैसे तो एक्सपर्ट की हिसाब से आपको 7 मिनट तक आपको शुरू में मैडिटेशन करना चाहिए पर आप शुरुवाती दिनों में 5 मिनट तक कर सकते है और ध्यान लगने का सही समय कौन सा होता है तो आपको बता दे की एक्सपर्ट के हिसाब से सुबह सूर्यौदय होने से पहले और रात को सोने से पहले आप कर सकते है

वैसे तो ध्यान लगने का कोई समय तय नहीं किया गया है आप यह दो समय इसलिए चुना गया है क्युकी सुबह शोर नहीं होता और प्राकर्तिक की ठंडी हवा और आंतरिक ऊर्जा से मिलना होता है और आपके दिमाग को ऑक्सीजन मिलता है जो की शरीर के लिए बहुत अच्छा होता है रात को भी ज्यादा शोर नहीं होता हो इसलिए यह दो समय में आप मैडिटेशन कर सकते है।

मैडिटेशन करने के कुछ आसान स्टेप्स

मैडिटेशन करने का फयदा तभी है जब आप सही तरह से करे नहीं तो अगर आप गलत तरह से करते है तो आपको समस्या हो सकती है और आपको लाभ भी नहीं मिलता इसलिए हमने कुछ तरह के स्टेप्स बनाये है जिसको फॉलो करके आप मैडिटेशन एक अच्छी तरह कर सकते है

अगर आप मैडिटेशन करना शुरू कर रहे है तो आप यह निचे दिए गए सभी तरह के स्टेप्स फॉलो करे और जो पहले से मैडिटेशन कर रहे है वह अपनी सीमा बढ़ाये ताकि आपको लाभ हो आईये जानते है कौन से है स्टेप्स जिसकी मदद से हम एक अच्छा मैडिटेशन कर सके और एक सुकून का जीवन बिता सके :-

मेडिटेशन क्या है और कैसे करें?

Meditation in Hindi
Meditation in Hindi

शांत जगह का चयन :- आप शांत जगह का चयन करे ताकि जब आप मैडिटेशन करे तो कोई आपको डिस्टर्ब न कर सके और आप अपने ध्यान में लीन रहे ताकि आपका दिमाग शांत अवस्थ में जा सके और यह याद रखे की जब आप ध्यान लागए तो आप बार बार अपनी आंखे न खोले नहीं तो आपका ध्यान टूट जाएगा और आप एक गहरी ध्यान नहीं लगा पाओगे और अगर आप अभी शुरुआत कर रहे है तो आप 5 से 10 मिनट के बिछे में ही ध्यान लागए

सही समय का चयन :- सही समय मतलब ऐसी समय में ध्यान लागए जहाँ पर ज्यादा शोर न हो जैसे की सुबह और रात में ध्यान लगना अच्छा मन जाता है वैसे आप कभी भी फ्री समय में आप मैडिटेशन कर सकते है

एक्सरसाइज / वार्मअप :- ध्यान लगने से पहले आप अपनी शरीर को वार्मअप या तो आप हलकी एक्सरसाइज कर सकते है इससे आपकी सभी मांसपेशियों एक्टिव हो जाती है फिर आप जब शांत अस्वथ में आते है तो आपकी मांसपेशियों स्ठर हो जाती है और आपको शांत की मुद्रा में आपके दिमाग को नियमित रूप से ऑक्सीजन मिलता है जिसकी वजह से पूरी बॉडी एक्टिव अस्वथ में जाती है और आपको अच्छा और रिफ्रेश सा लगता है

हलके कपडे पहने :- ध्यान लगने से पहले यह कुछ छोटी छोटी बातें होती है जैसे अगर आप ध्यान की अस्वस्थ करना है तो आपको हल्का कपडा पहना होता है ताकि आपको ध्यान के समय आपकी बॉडी बिलकुल हलकी लगे और आप ध्यान में लगे रहे

सही अवस्थ में बैठे :- ध्यान कैसे करे यह तो हमे पता चल गया है पर आपको ध्यान की अवस्थ में कैसे बैठना है आपकी गर्दन बिलकुल सीधे और कमर सीधे रखे और आपको दोनों में मोड़ कर एक पैर के ऊपर दूसरे पैर पर रखना है और आपको जमीन या मुलायम आरामदायक वाली जगह पर बैठना है

सांस ले और छोड़े :- आपको ध्यान लगते समय आपको धीरे धीरे सांस लेना है और धिरे धिरे सांस छोड़ना है आप लम्बी सांस भी ले सकते है और आपको इस दौरान आपके चेहरे पर स्माइल होना चाहिए ताकि आपको लगे आपके आस पास अच्छा वातावरण है और आप खुश अपने ध्यान में और कभी भी कभी भी लम्भी सांस ले कर जल्दी से न छोड़े आपको परेशानी हो सकती है

Meditation in Hindi
Yoga Benefit for your Brain

किसी केंद्र पर ध्यान दे :- आप ध्यान लगने के लिए किसी आवाज़ को ध्यान से सुन कर उसपे केंद्र बना सकते है आप हवा की आवाज़ सुन सकते है आप पानी की आवाज़ सुन सकते है और आज कल डिजिटल के डोर पर भी लोग अपने कान हैडफ़ोन लगा कर उसमे बारिश की आवाज़ या फिर शांति वाली आवाज़ के जरिये ध्यान लगते है जो की एक अच्छा परिणाम भी देखने को मिलता है क्युकी बहार की आवाज़ आपको पता नहीं चलती है

ध्यान से धीरे धीरे निकले :- जब आपको ध्यान लगने का वक़्त पूरा हो जाये तो आप कभी भी अचानक आंख न खोले आप धीरे धीरे आप अपने आस पास के वातावरण को सुने और फिर आप कुछ समय के लिए आराम की अवस्थ में बैठे रहे फिर आंख धीरे धीरे खोले।

मेडिटेशन करते समय बरते सावधानियां ( Meditation in Hindi )

  • ध्यान लगाते समय अपनी सांस को नियंत्रित रखें। अचानक से कम और तेज न करें।
  • मेडिटेशन हमेशा ढीले वस्त्र पहनकर ही करें तो बेहतर रहेगा।
  • ध्यान करने के लिए सूर्योदय से पहले और रात के भोजन से पहले का समय बेहतर रहता है।
  • ध्यान को समाप्त करने के लिए जल्दबाजी न करें, धीरे- धीरे सामान्यावस्था में आना चाहिए।
  • आप चाहें तो ध्यान के समय कुछ सुगंधित फूल और धूप या अगरबत्ती भी रख सकते हैं।
  • कोशिश करें कि ध्यान के समय आपका पेट खाली हो।
  • ध्यान करते समय अपने चेहरे पर मुस्कुराहट बनाए रखें, इससे आपको खुशी का अनुभव होगा।
  • ध्यान के समय आपकी रीढ़ की हड्डी एकदम सीधी होनी चाहिए, कंधे तने और सीना बाहर की ओर निकला हुआ होना चाहिए।

Leave a Comment

Protein क्या है? और आपको इसकी आवश्यकता क्यों है हाई प्रोटीन वेजीटेरियन फूड्स जानें गर्मियों में बेल का ज्यूस पीने के फायदे प्रोटीन से भरपूर पौष्टिक खाना बेल का शरबत पीने के फायदे